भारतीय IT क्षेत्र में जापान का रेवेन्यू कॉन्ट्रीब्यूशन बहुत कम है, जबकि जापान टेक्नोलॉजी पर सबसे ज्यादा खर्च करने वालों में से एक है। TCS ने 2020 के बाद से सबसे धीमी क्वार्टरली प्रॉफिट ग्रोथ दर्ज की है। साथ ही कंपनी के मुख्य बाजार, उत्तरी अमेरिका से रेवेन्यू कॉन्ट्रीब्यूशन में लगातार चार तिमाहियों में गिरावट देखी गई है।’s post

भारतीय IT क्षेत्र में जापान का रेवेन्यू कॉन्ट्रीब्यूशन बहुत कम है, जबकि जापान टेक्नोलॉजी पर सबसे ज्यादा खर्च करने वालों में से एक है। TCS ने 2020 के बाद से सबसे धीमी क्वार्टरली प्रॉफिट ग्रोथ दर्ज की है। साथ ही कंपनी के मुख्य बाजार, उत्तरी अमेरिका से रेवेन्यू कॉन्ट्रीब्यूशन में लगातार चार तिमाहियों में गिरावट देखी गई है। भारतीय IT क्षेत्र में जापान का रेवेन्यू कॉन्ट्रीब्यूशन बहुत कम है, जबकि जापान टेक्नोलॉजी पर सबसे ज्यादा खर्च करने वालों में से एक है। TCS ने 2020 के बाद से सबसे धीमी क्वार्टरली प्रॉफिट ग्रोथ दर्ज की है। साथ ही कंपनी के मुख्य बाजार, उत्तरी अमेरिका से रेवेन्यू कॉन्ट्रीब्यूशन में लगातार चार तिमाहियों में गिरावट देखी गई है।

You May Also Like

वेदांता (Vedanta) के शेयरों में खरीदारी का अच्छा रुझान दिख रहा है। इसकी वजह ये है कि वैश्विक ब्रोकरेज फर्म CLSA ने इसकी रेटिंग को अपग्रेड किया है। पहले ब्रोकरेज ने इसे सेल रेटिंग दी थी लेकिन अब इसे अंडरपरफॉर्म रेटिंग दी है। इसका टारगेट प्राइस भी बढ़ा दिया है लेकिन यह टारगेट अभी भी मौजूदा लेवल से काफी नीचे है’s post

हाल में Amazon, Meta और Walmart के फाउंडर्स और प्रमोटर्स ने अपने शेयर बेचे हैं। इंडिया में भी कंपनियों के प्रमोटर्स ने 2023 में करीब 1.5 लाख करोड़ रुपये के शेयर बेचे हैं। मार्केट के कुछ जानकारों का मानना है कि इसकी वजह शेयरों की ज्यादा वैल्यूएशन हो सकती है’s post

More From Author

वेदांता (Vedanta) के शेयरों में खरीदारी का अच्छा रुझान दिख रहा है। इसकी वजह ये है कि वैश्विक ब्रोकरेज फर्म CLSA ने इसकी रेटिंग को अपग्रेड किया है। पहले ब्रोकरेज ने इसे सेल रेटिंग दी थी लेकिन अब इसे अंडरपरफॉर्म रेटिंग दी है। इसका टारगेट प्राइस भी बढ़ा दिया है लेकिन यह टारगेट अभी भी मौजूदा लेवल से काफी नीचे है’s post

हाल में Amazon, Meta और Walmart के फाउंडर्स और प्रमोटर्स ने अपने शेयर बेचे हैं। इंडिया में भी कंपनियों के प्रमोटर्स ने 2023 में करीब 1.5 लाख करोड़ रुपये के शेयर बेचे हैं। मार्केट के कुछ जानकारों का मानना है कि इसकी वजह शेयरों की ज्यादा वैल्यूएशन हो सकती है’s post

+ There are no comments

Add yours